बुधवार, 18 अक्तूबर 2017

दीपावली पर पूर्वजों का तर्पण: भंवरलाल गुर्जर एडवोकेट

राजस्थान मध्यप्रदेश के गुर्जर समुदाय में अपने पुर्वजो के श्राद्व की अन्य जातियो से अलग अनुठी परम्परा प्रचलित है जिसे गुर्जर में छांट के नाम से जाना जाता है जिसका आयोजन दिपावली के दिन सामुहिक रुप से होता है परम्परा के अनुसार गुर्जर समुदाय के पुरुष सदस्य दिपावली की अमावस्या के दिन पुरे गांव के व्यक्ति जिसमे गुर्जर समुदाय के व्यक्ति ही सम्मिलित है सामुहीक रुप से एकत्रित होकर जलाशय के किनारे जाकर अपने पुर्वजो का तर्पण करते है गुर्जर समुदाय की यह अपने पुर्वजो के श्राद्व की विधि है इसमे सामुहीक रुप से सभी लोग एक साथ पुर्वजो को याद करते हैं तथा एक लम्बी पंक्ति में जलाशय में जलीय जीवो को खाद्य सामग्री अर्पित कर पुर्वजो को उक्त पुण्य समर्पित कर शान्ति की प्रार्थना करते है विशेष यह है कि इस दौरान पहली बार किसी परिवार के नवागत सदस्य के पंक्तिबद्ध होने पर उस परिवार द्वारा गुड की भेली बांटी जाती है यह एक प्रकार से नये सदस्य का परिचय होता है,इस श्राद्व विधि को गुर्जर समुदाय में छांट के नाम से जाना जाता है यह परम्परा गुर्जर समुदाय में प्रचलित है जो राजस्थान ओर मध्यप्रदेश के गुर्जर समुदाय द्वारा ही अपनाई जाती है इन दो प्रदेशों के अलावा युपी दिल्ली हरियाणा हिमाचल प्रदेश जम्मू कश्मीर गुजरात और महाराष्ट्र में अन्य जातियो की भांति ही श्राद्व किये जाते हैं! "
गुर्जर समुदाय में छांट की परम्परा क्यो?
इस सम्बन्ध में यह कारण  प्रचलित है
इसका कारण यह माना जाता है ,वर्तमान राजस्थान प्रांत के विख्यात हिन्दू तीर्थ स्थल पुष्कर जिसे पोखर जी गुर्जर जो चेची गोत्र ने बसाया था जिसके प्रथम शासक पोखर जी ही थे से जुड़ी हुई है !
पोखर जी गुर्जर के एक पुत्री थी जिसका नाम गायत्री था एक बार भगवान ब्रह्मा जी ने विश्व कल्याण के लिए यज्ञ करने का विचार किया यज्ञ करने हेतु पृथ्वी में ऐसे स्थान का चयन करना था जो पृथ्वी का मध्य भाग हो और पृथ्वी का मध्य भाग पुष्कर सरोवर था जिसे उस समय पोखर जी की नाडी के नाम से जाना जाता था जिसमें पोखर जी की गायें पानी पिया करती थी अभी भी पुष्कर सरोवर को धरती का मझ कहा जाता है कथा के अनुसार पुष्कर सरोवर में ब्रह्मा जी और उनकी पत्नी सावित्री जो जोडे से हवन करना था सम्पुर्ण विधि पुर्ण होने के बावजूद सावित्री जी यज्ञस्थल नहीं पहुंची जबकि ब्रह्मा जी यज्ञ कार्यक्रम में अपना स्थान गृहण कर चुके थे विधि के अनुसार यज्ञ सम्पन्न हुए बिना ब्रह्मा जी का यज्ञ स्थल से उठना अनहोनी को आमंत्रण था और यज्ञ सम्पन्न होना भी आवश्यक था बहुत देर तक प्रतिक्षा करने के बावजूद सावित्री जी नहीं पहुंची जबकि यज्ञ के निर्धारित मुहर्त निकल रहा था ऐसे में यज्ञ स्थान के पास अपनी सहेलियो के साथ गांये चरा रही पौखर जी गुर्जर की बालिका गायत्री को यज्ञ सम्पन्न करने हेतु उपयुक्त मानते हुए ब्रह्मा जी ने शास्त्र विधि से अपनी पत्नी मानकर अपने वामांग बिठाकर यज्ञ सम्पन्न कर लिया जैसे ही यज्ञ सम्पन्न हुआ सावित्री जी यज्ञ शाला में पहुंच गई और ब्रह्मा जी के वामागं गायत्री को देख कर क्रौधित हो गई तथा गायत्री के द्वारा अपने अधिकारो में अतिक्रमण मानते हुए बिना सोच विचार दिए आवेश में आकर गायत्री को वंश के विनाश का श्राप दे दिया, सावित्री जी के द्वारा दिए गए श्राप से गायत्री जी व्याकुल हो गई और रोने लगी और सावित्री जी से अनुनय विनय करने लगी की मेरा कोई दोष नहीं है और मेरे वंश को श्राप से मुक्त किया जावे परन्तु सावित्री ठस से मस नही हुई सावित्री जी के द्वारा किये गये अमानवीय व्यवहार से दुखी गायत्री को बहुत पीडा हुई तथा उन्हौने ईश्वर को साक्षी मानकर  स्वंय के निर्दोष निष्कलंक होने की घोषणा करते हुए क्रौध में आकर सावित्री जी श्राप दिया कि हे सावित्री जी मै पुर्णत: निर्दोष हुँ और तुमने बिना परिस्थिति को जाने क्रौध के वशीभूत होकर मेरे वंश के विनाश का मुझे श्राप दिया है जो प्रतिकार की भावना उद्घाटन हैं इसलिए मैं तुम्हें श्राप देती हूँ की इस सम्पुर्ण संसार में तुम्हें कोई आदर सम्मान नही मिलेगा तुम्हारी कहीं पुजा नही होगी तुम्हारी सम्पुर्ण कीर्ति का विनाश होगा!
गायत्री के द्रारा दिये श्राप के कारण सावित्री जी घबरा गई और  गायत्री जी से क्षमा मांगने लगी तथा कहा कि हे गायत्री मेरे मुखारविन्द से क्रौध के वशीभूत अचेतन अवस्था में प्रवाहीत शब्द भी मिथ्या नही हो सकते हैं इसलिए मैं तुम्हारे वंश की वृद्धि का उपाय बताती हुँ इस उपाय का पालन करने से तुम्हारे वंश की वृद्धि और समृद्धि और कीर्ति में दिन दुनी और रात चौगुनी बढोत्तरी होगी
हे गायत्री तुम्हारे वंशज अपने पुर्वजो का सामुहीक रुप से इस पुष्कर सरोवर में कार्तिक मास के कृष्ण पक्ष की अमावस्या के तर्पण करेगे तो निश्चित ही काल तुम्हारे वंशजों से दुर रहेगा और  प्रत्येक वर्ष तुम्हारे वंश में निरन्तर वृद्धि होगी इस पर गायत्री जी ने भी आवेश में आकर सावित्री जी को दिये गए श्राप के कारण आत्मग्लानी प्रकट करते हुए उन्हें श्राप  आंशिक मुक्त करते हुए कहा कि हे माते मेरे निर्दोष मन ने आवेश में आकर प्रताड़ित कर श्राप दिया है अतः मेरे मुख से निकले हुए शब्द सदैव सत्य सिद्ध होंगे परन्तु मैं आपको वचन देती हूँ कि इस संसार में तो आपकी पुजा नही होगी परन्तु पुष्कर नगर में आपको बहुत ही श्रद्धा से पुजा जायेगा उनके इस वार्तालाप के पश्चात ब्रह्मा जी ने गायत्री द्वारा यज्ञ सम्पादन में दिए गये सहयोग से प्रसन्न होकर गायत्री जी वरदान दिया कि हे गायत्रे मै बहुत प्रसन्न हुँ तुम्हारे द्वारा यज्ञ सम्पादन में दिए गए सहयोग से सम्पुर्ण स्रष्टि का कल्याण होगा अतः मैं तुम्हें समुर्ण संगीत के सुर प्रदान करता हूँ तुम्हारे नाम से इस संसार में गायत्री मंत्र प्रचलित होगा जिसका चिंतन करने मात्र से विकट से विकट संकट दुर होगा! "
तब से गुर्जर समुदाय में सामुहीक रुप से जलाशय की तीर पर  पुर्वजो का श्राद्व किया जाता है जिंसे छांट कहा जाता है! '
         भँवरलाल गुर्जर
  एडवोकेट हिण्डोली बुन्दी राज.
(प्रदेश उपाध्यक्ष- राष्ट्रीय वीर गुर्जर महासभा राजस्थान)
मो. न. 9413128799
          9602252511

शनिवार, 30 सितंबर 2017

गाँवो से जुड़े अपने सभी साथियों को जरूरी सूचना


नवोदय विद्यालयों में वर्ष 2018 में 6 ठी कक्षा की प्रवेश परीक्षा का नोटिफिकेशन निकल गया है. इस बार हम सब मिलकर प्रयास करें कि ज्यादा से ज्यादा बच्चों के फार्म भरवाएं जाएँ और उनकी तैयारी की जिम्मेदारी हम लोग लें. इसमें भारतीय गुर्जर परिषद् की तरफ से आपको पूरा सहयोग मिलेगा.

नवोदय स्कूल में एक बार प्रवेश के बाद पढाई का खर्चा न के बराबर है. पढाई का स्तर बहुत अच्छा है. इसके अलावा नवोदय से निकले बच्चे जो आज कामयाब हो गए हैं, वो भी इनकी सहायता करते हैं. हमारे लोगों को इसके बारे में जानकारी नहीं है. आप उन्हें जानकारी दें, सहयोग और सहायता करें. कुछ जरुरी बातें:-

फार्म आन लाइन भरे जाने हैं जिसकी अंतिम तिथि 25 नवंबर 2017 है. कमान सर्विस सेंटर  (जो आधार कार्ड आदि भी बनाते हैं) वाला फार्म भरने के लिए 35 रूपये लेगा.
आयु: 30.04.2009 के बाद व 01.04.2005 से पूर्व जन्मे बच्चे जो इस वर्ष कक्षा-5 में अध्यनरत यानि जिनकी जन्म तिथि 1 मई 2009 से लेकर 30 अप्रैल, 2005 तक के बीच है.
बच्चा उसी जिले का निवासी होना चाहिए जिस जिले के नवोदय विद्यालय में अप्लाई कर रहा है.
आवशयक दस्तावेज - मूल निवासी, जन्म प्रमाण पत्र एवं अध्ययन प्रमाण पत्र (निर्धारित प्रारूप में पाठशाला प्रधान द्वारा जारी)
75 प्रतिशत सीटें ग्रामीण क्षेत्र के बच्चों के लिए रिजर्व हैं.
उत्तर प्रदेश और आस पास के राज्यों में परीक्षा के लिये "admit card" 15 जनवरी, 2018 से ऑनलाइन डाउनलोड किया जा सकेगा जबकि परीक्षा 10 फरवरी, 2018 को होगी. परिणाम अप्रैल/मई 2018 में आयेंगे. 
(अधिक से अधिक शेयर करे , आपके अपने क्षेत्र में अधिकतम बच्चों से ऑनलाइन फॉर्म भरवाने में मदद करे । )
विस्तृत जानकारी के लिए वेबसाइट का लिंक नीचे दिया जा रहा है, जिसे एक बार अवश्य देख लें:-
http://nvshq.org/uploads/1notice/JNVST_2018_Prospectus_r-1506392796.pdf

-केपीसिंह गुर्जर
राष्ट्रीय महासचिव, भारतीय गुर्जर परिषद्

बुधवार, 27 सितंबर 2017

शक - सीथियन (Shaka - Scythians - Gurjar) - गुर्जर

शक - सिथियन  Shaka - Scythians - Gurjar - गुर्जर

प्रसिद्ध विद्वान कनिंघम का मानना है कि गुर्जर सिथियन ( शक ) और कुषाण जनजातियों के वंशज हैं , ओर गुर्जर ही कुषाण और शक के असली प्रतिनिधित्व हैं|

भारत , ईरान , उज़बेकिस्तान , ताजिकिस्तान , गुज्जरिस्तान , अफ़ग़ानिस्तान , पाकिस्तान , स्पेन , ईरानशहर , किर्गिज़स्तान, ईराक आदि मध्य एशिया के देशो में अनेको स्थानों के नाम गुर्जर बिरादरी के नाम से आज भी जाने जाते हैं| हम मध्य एशिया के उन ताकतवर कबीलो के वंशज हैं , जिनका डंका एशिया से लेकर युरोप तक के देशो मे बजा हैं| इसी कारण से आज भी मध्य एशिया के 11 देशो मे गुर्जरों के नाम पर आपको अनेको स्थान की जानकारिया मिल जाएँगी , जो हमारे गुर्जर कबीलो के जीत की निशानी को दर्शाता हैं|

शक प्राचीन मध्य एशिया में रहने वाली स्किथी लोगों की एक जनजाति या जनजातियों का समूह था। इनकी सही नस्ल की पहचान करना कठिन रहा है क्योंकि प्राचीन भारतीय, ईरानी, यूनानी और चीनी स्रोत इनका अलग-अलग विवरण देते हैं। फिर भी अधिकतर इतिहासकार मानते हैं कि 'सभी शक स्किथी थे, लेकिन सभी स्किथी शक नहीं थे', यानि 'शक' स्किथी समुदाय के अन्दर के कुछ हिस्सों का जाति नाम था। स्किथी विश्व के भाग होने के नाते शक एक प्राचीन ईरानी भाषा-परिवार की बोली बोलते थे और इनका अन्य स्किथी-सरमती लोगों से सम्बन्ध था। शकों का भारत के इतिहास पर गहरा असर रहा है क्योंकि यह युएझ़ी लोगों के दबाव से भारतीय उपमहाद्वीप में घुस आये और उन्होंने यहाँ एक बड़ा साम्राज्य बनाया। आधुनिक भारतीय राष्ट्रीय कैलंडर 'शक संवत' कहलाता है। बहुत से इतिहासकार इनके दक्षिण एशियाई साम्राज्य को 'शकास्तान' कहने लगे हैं, जिसमें पंजाब, हरियाणा, राजस्थान, गुजरात, सिंध, ख़ैबर-पख़्तूनख़्वा और अफ़्ग़ानिस्तान शामिल थे।

बनने चले थे कुषाण गुर्जरों की संतान , अब तो शक गुर्जरों की संतान भी नही रहे , क्यूकि की प्रसिद्ध विद्वान कनिंघम का मानना है की शक भी मुलतः गुर्जर हैं|

शनिवार, 23 सितंबर 2017

विशेष पिछड़ा वर्ग के नाम एक अपील: नन्दलाल गुर्जर

मांडलगढ़ विधानसभा उपचुनाव में एसबीसी को मिले टिकट, आजादी के 70 साल बाद भी है मूलभूत सुविधाओं से वंचित वरना कुठाराघात सहन नहीं किया जायेगा
--------------------------------------
(नन्दलाल गुर्जर) मांडलगढ़ विधायक कीर्तिकुमारी जी के निधन के बाद मांडलगढ़ विधानसभा उपचुनाव होंगे| उपचुनाव में भाजपा और कांग्रेस में उम्मीदवार अपनी अपनी दावेदारी और दमखम दिखा रहे है| भाजपा से सम्भावित प्रत्याशी हर्षिता कंवर, भीलवाड़ा UIT चैयरमैन गोपाल खण्डेलवाल, भीलवाड़ा जिला प्रमुख शक्ति सिंह हाड़ा, पंजाब के राज्यपाल वीपी सिंह के पुत्र अविजित सिंह और कांग्रेस से 2013 में मोदी लहर में पराजय रहे विवेक धाकड़, पूर्व विधायक प्रदीप कुमार सिंह, पूर्व प्रधान गोपाल मालवीय, कांग्रेस जिलाध्यक्ष अनिल डांगी, पूर्व मुख्यमंत्री शिवचरण माथुर की पुत्री वन्दना माथुर एवं पौत्र राहुल माथुर आदि| मांडलगढ़ विधानसभा क्षेत्र में धाकड़ समाज के 35000 मतदाता है और गुर्जर समाज के 30000 मतदाता है जो उपचुनाव जीत के लिए निर्णायक भूमिका में है| अगर आकड़ों पर गौर करे तो मांडलगढ़ विधानसभा क्षेत्र में विशेष पिछड़ा वर्ग का वोटबैंक सबसे ज्यादा और मजबूत है| गाड़िया लुहार समाज के 1000 मतदाता, रेबारी समाज के 4500 मतदाता, बंजारा समाज के 10000 मतदाता, गायरी समाज के 5000 मतदाता, गुर्जर समाज के 30000 मतदाता है| एसबीसी के 50000 से ज्यादा वोट है| अतः दोनों पार्टियों भारतीय जनता पार्टी और कांग्रेस पार्टी  एसबीसी उम्मीदवार को अपना प्रत्याशी घोषित करती है तो निश्चित रूप से यह उपचुनाव संजीवनी साबित होगा| ताजुब की बात यह है कि आजादी के 70 साल बीत जाने के बाद भी विशेष पिछड़ा वर्ग की विधानसभा क्षेत्र में अनदेखी की गई और 70 साल तक ये राजनीतिक दल विशेष पिछड़ा वर्ग का वोटबैंक के रूप में उपयोग करते रहे| आज भी मूलभूत सुविधाओं से विशेष पिछड़ा वर्ग वंचित है| यह समय है एकता का और एकजुट होकर अधिकारो के प्रति संघर्ष करने का| विशेष पिछड़ा वर्ग अपने हक और अधिकारों के लिए एकजूट है|
नन्दलाल गुर्जर
मो. 9166904121

मंगलवार, 12 सितंबर 2017

गुर्जर इतिहास चेतना के सूत्र : डॉ. सुशील भाटी

गुर्जर इतिहास चेतना के सूत्र

डॉ सुशील भाटी

प्राचीन गुर्जर इतिहास को समझने के लिए तीन बिन्दु हैं - कुषाण साम्राज्य (50- 250ई.), हूण साम्राज्य (490-542 ई.) तथा गुर्जर प्रतिहार साम्राज्य (725-1018 ई.)| प्राचीन भारत में गुर्जरों के पूर्वजों द्वारा स्थापित किये गए इन साम्राज्यों के क्रमश सम्राट कनिष्क (78-101 ई.), सम्राट मिहिरकुल (502-542 ई.) और सम्राट मिहिर भोज (836-886 ई.) प्रतिनिधि आइकोन हैं| 

गुर्जर समाज में इतिहास चेतना उत्पन्न करने हेतु “सूर्य उपासक सम्राट कनिष्क” की जयंती ‘सूर्य षष्ठी’ छठ पूजा के दिन वर्षो से मनाई जाती रही हैं| भारत में सूर्य पूजा का प्रचलन अति प्राचीन काल से ही है, परन्तु ईसा की प्रथम शताब्दी में, कुषाण कबीलों ने इसे विशेष रूप से लोकप्रिय बनाया। कुषाण मुख्य रूप से मिहिर ‘सूर्य’ के उपासक थे। सूर्य का एक पर्यायवाची ‘मिहिर’ है, जिसका अर्थ है, वह जो धरती को जल से सींचता है, समुद्रों से आर्द्रता खींचकर बादल बनाता है। सम्राट कनिष्क की मिहिर ‘सूर्य’ के प्रति आस्था को प्रकट करने वाले अनेक पुरातात्विक प्रमाण हैं| कुषाण सम्राट कनिष्क ने अपने सिक्कों पर मीरों ‘मिहिर’ देवता  का नाम और चित्र अंकित कराया था|  सम्राट कनिष्क के सिक्के में मिहिर ‘सूर्य’ बायीं और खड़े हैं। भारत में सिक्कों पर सूर्य का अंकन किसी शासक द्वारा पहली बार हुआ था। पेशावर के पास ‘शाह जी की ढेरी’ नामक स्थान पर एक बक्सा प्राप्त हुआ इस पर कनिष्क के साथ सूर्य एवं चन्द्र के चित्र का अंकन हुआ है। मथुरा के सग्रहांलय में लाल पत्थर की अनेक सूर्य प्रतिमांए रखी है, जो कुषाण काल की है। इनमें भगवान सूर्य को चार घोड़ों के रथ में बैठे दिखाया गया है। वे कुर्सी पर बैठने की मुद्रा में पैर लटकाये हुये है। उनका शरीर ‘औदिच्यवेश’ अर्थात् पगड़ी,  लम्बा कोट और सलवार से ढका है और वे ऊंचे जूते पहने हैं। उनकी वेशभूषा बहुत कुछ, मथुरा से ही प्राप्त  कनिष्क की सिरविहीन प्रतिमा जैसी है। भारत में ये सूर्य की सबसे प्राचीन मूर्तियां है| भारत में पहले सूर्य मन्दिर की स्थापना मुल्तान में हुई थी, जिसे कुषाणों ने बसाया था। इतिहासकार डी. आर. भण्डारकर के अनुसार कनिष्क के शासन काल  में ही सूर्य एवं अग्नि के पुरोहित मग ब्राह्मणों ने  भारत में प्रवेश किया। उसके बाद ही उन्होंने कासाप्पुर ‘मुल्तान’ में पहली सूर्य प्रतिमा की स्थापना की। ए. एम. टी. जैक्सन के अनुसार मारवाड़ क्षेत्र स्थित भीनमाल में सूर्य देवता के प्रसिद्ध जगस्वामी मन्दिर का निर्माण काश्मीर के राजा कनक ‘सम्राट कनिष्क’ ने कराया था। सातवी शताब्दी में यही भीनमाल आधुनिक राजस्थान में विस्तृत ‘गुर्जर देश’ की राजधानी बना।  कनिष्क मिहिर और अतर ‘अग्नि’ के अतरिक्त कार्तिकेय, शिव तथा बुद्ध आदि भारतीय देवताओ का उपासक था| कनिष्क ने भारत में कार्तिकेय की पूजा को विशेष बढ़ावा दिया। कनिष्क के बेटे हुविष्क का चित्रण उसके सिक्को पर महासेन 'कार्तिकेय' के रूप में किया गया हैं|आधुनिक पंचाग में सूर्य षष्ठी एवं कार्तिकेय जयन्ती एक ही दिन पड़ती है| कोई चीज है प्रकृति में जिसने इन्हें एक साथ जोड़ा है-वह है सम्राट कनिष्क की आस्था। ‘सूर्य षष्ठी’ के दिन सूर्य उपासक सम्राट कनिष्क को भी याद किया जाना चाहिये और उन्हें भी श्रद्धांजलि दी जानी चाहिये।  

इसी क्रम में“शिव भक्त सम्राट मिहिरकुल हूण” की जयंती ‘सावन की शिव रात्रि’ पर मनाई जाती हैं| मिहिकुल हूण एक कट्टर शैव था|  मिहिरकुल को ग्वालियर अभिलेख में भी शिव भक्त कहा गया हैं| मिहिरकुल के सिक्कों पर जयतु वृष लिखा हैं जिसका अर्थ हैं- जय नंदी| वृष शिव कि सवारी हैं जिसका नाम नंदी हैं| उसने अपने शासन काल में अनेक शिव मंदिर बनवाये| मंदसोर अभिलेख के अनुसार यशोधर्मन से युद्ध होने से पूर्व उसने भगवान स्थाणु ‘शिव’ के अलावा किसी अन्य के सामने अपना सर नहीं झुकाया था| कल्हण कृत राजतरंगिणी के अनुसार उसने कश्मीर में मिहिरपुर नामक  नगर बसाया तथा श्रीनगर के पास मिहिरेशवर नामक भव्य शिव मंदिर बनवाया था| उसने गांधार इलाके में ब्राह्मणों को 1000 ग्राम दान में दिए थे| कल्हण मिहिरकुल हूण को ब्राह्मणों के समर्थक शिव भक्त के रूप में प्रस्तुत करता हैं| मिहिरकुल ही नहीं वरन सभी हूण शिव भक्त थे| हनोल ,जौनसार – बावर, उत्तराखंड में स्थित महासु देवता “महादेव” का मंदिर हूण स्थापत्य शैली का शानदार नमूना हैं, कहा जाता हैं कि इसे हूण भट ने बनवाया था| यहाँ यह उल्लेखनीय हैं कि भट का अर्थ योद्धा होता हैं | तोरमाण और मिहिरकुल के ‘अलखान हूण परिवार ’ के पतन के बाद हूणों के इतिहास के प्रमाण राजस्थान के हाडौती और मेवाड़ के पहाड़ी इलाको से प्राप्त होते हैं| पूर्व मध्य काल में कोटा-बूंदी का क्षेत्र हूण प्रदेश कहलाता था| ऐतिहासिक हूणों के प्रतिनिधि के तौर पर वर्तमान में इस क्षेत्र में हूण गुर्जर काफी संख्या में पाए जाते हैं| बूंदी इलाके में रामेश्वर महादेव,  भीमलत और झर महादेव हूणों के बनवाये प्रसिद्ध शिव मंदिर हैं|  बिजोलिया, चित्तोरगढ़ के समीप स्थित मैनाल कभी हूण राजा अन्गत्सी की राजधानी थी, जहा हूणों ने तिलस्वा महादेव का मंदिर बनवाया था| चंबल के निकट स्थित भैंसोरगढ़ से तीन मील की दूरी पर बाडोली का प्रसिद्ध प्राचीन शिव मंदिर हैं| मंदिर के आगे एक मंडप हैं जिसे लोग ‘हूण की चौरी’ कहते हैं| कर्नल टाड़ के अनुसार बडोली में स्थित सुप्रसिद्ध  शिव मंदिर के हूणराज ने बनवाया था|

भादो के शुक्ल पक्ष की तीज को वराह जयंती होती हैं| गुर्जर प्रतिहार सम्राट मिहिर भोज की उपाधि ‘आदि वराह’ थी, जोकि उसके सिक्को पर उत्कीर्ण थी|| अतः इस दिन मिहिर भोज को भी याद किया जाता हैं| ‘आदि वराह’ आदित्य वराह का संक्षिप्त रूप हैं| आदित्य सूर्य का पर्यायवाची हैं| इस प्रकार आदि वराह एक सूर्य से संबंधित देवता हैं| वराह और सूर्य के संयुक्तता  कुछ स्थानो और व्यक्तियों के नामो में भी दिखाई देती हैं, जैसे- उत्तर प्रदेश के बहराइच स्थान का नाम वराह और आदित्य शब्दों से वराह+आदित्य= वराहदिच्च/ वराहइच्/ बहराइच होकर बना हैं|कश्मीर में बारामूला नगर हैं, जोकि प्राचीन काल के वराह+मूल = वराहमूल का अपभ्रंश हैं| ‘मूल’ सूर्य का पर्याय्वाची हैं| भारतीय नक्षत्र विज्ञानी वराहमिहिर (505-587 ई.) के नाम में तो दोनों शब्द एक दम साफ़ तौर पर देखे जा सकते हैं| मिहिर का अर्थ भी सूर्य हैं| वराह को विष्णु का अवतार माना जाता हैं| वेदों में भगवान विष्णु भी सौर देवता हैं| विष्णु भगवान को सूर्य नारायण भी कहते हैं| ‘मिहिर’ और ‘आदि वराह’ दोनों ही गुर्जर प्रतिहार सम्राट मिहिर भोज की उपाधि हैं| अतः "मिहिर भोज जयंती" को “मिहिरोत्सव” के रूप में भी मना सकते हैं|

मिहिर शब्द का गुर्जरों के इतिहास के साथ गहरा सम्बंध हैं| हालाकि गुर्जर चौधरी, पधान ‘प्रधान’, आदि उपाधि धारण करते हैं, किन्तु ‘मिहिर’ गुर्जरों की विशेष उपाधि हैं| राजस्थान के अजमेर क्षेत्र और पंजाब में गुर्जर मिहिर उपाधि धारण करते हैं| मिहिर ‘सूर्य’ को कहते हैं| भारत में सर्व प्रथम सम्राट कनिष्क कोशानो ने ‘मिहिर’ देवता का चित्र और नाम अपने सिक्को पर उत्कीर्ण करवाया था| कनिष्क ‘मिहिर’ सूर्य का उपासक था| उपाधि के रूप में सम्राट मिहिर कुल हूण ने इसे धारण किया था| मिहिर कुल का वास्तविक नाम गुल था तथा मिहिर उसकी उपाधि थी| मिहिर गुल को ही मिहिर कुल लिखा गया हैं| कैम्पबैल आदि इतिहासकारों के अनुसार हूणों को मिहिर भी कहते थे| गुर्जर प्रतिहार सम्राट भोज महान ने भी मिहिर कुल की भाति मिहिर उपाधि धारण की थी| इसीलिए इतिहासकार इन्हें मिहिर भोज भी कहते हैं| संभवतः “गुर्जर प्रतिहारो की हूण विरासत” रही हैं| मिहिर उपाधि की परंपरा गुर्जरों की ऐतिहासिक विरासत को सजोये और संरक्षित रखे हुए हैं|

मशहूर पुरात्वेत्ता एलेग्जेंडर कनिंघम इतिहास प्रसिद्ध कुषाणों की पहचान आधुनिक गुर्जरों से की हैं| उनके अनुसार गुर्जरों का कसाना गोत्र कुषाणों का वर्तमान प्रतिनिधि हैं| उसकी बात का महत्व इस बात से और बढ़ जाता है कि गुर्जरों का कसाना गोत्र क्षेत्र विस्तार एवं संख्याबल की दृष्टि से सबसे बड़ा है। कसाना गौत्र अफगानिस्तान से महाराष्ट्र तक फैला है और भारत में केवल गुर्जर जाति में मिलता है। ऐतिहासिक तौर पर कनिष्क द्वारा स्थापित कुषाण साम्राज्य गुर्जर समुदाय का प्रतिनिधित्व करता हैं, क्योकि यह मध्य और दक्षिण एशिया के उन सभी देशो में फैला हुआ था, ज़हाँ आज गुर्जर निवास करते हैं| कुषाण साम्राज्य के अतरिक्त गुर्जरों से सम्बंधित कोई अन्य साम्राज्य नहीं हैं, जोकि पूरे दक्षिणी एशिया में फैले गुर्जर समुदाय का प्रतिनिधित्व करने के लिए अधिक उपयुक्त हो| यहाँ तक की मिहिर भोज द्वारा स्थापित प्रतिहार साम्राज्य केवल उत्तर भारत तक सीमित था, तथा पश्चिमिओत्तर में करनाल इसकी बाहरी सीमा थी| कनिष्क के साम्राज्य का एक अंतराष्ट्रीय महत्व हैं, दुनिया भर के इतिहासकार इसमें अकादमिक रूचि रखते हैं| सम्राट कनिष्क कोशानो 78 ई. में राजसिंघासन पर बैठा| अपने राज्य रोहण को यादगार बनाने के लिए उसने इस अवसर पर एक नवीन संवत चलाया, जिसे शक संवत कहते हैं| शक संवत भारत का राष्ट्रीय संवत हैं| “भारतीय राष्ट्रीय संवत- शक संवत” 22 मार्च को शुरू होता हैं| इस प्रकार 22 मार्च सम्राट कनिष्क के राज्य रोहण की वर्षगाठ हैं| दक्षिणी एशिया विशेष रूप से गुर्जरों के प्राचीन इतिहास में यह एक मात्र तिथि हैं जिसे अंतराष्ट्रीय रूप से प्रचलित जूलियन कलेंडर के अनुसार निश्चित किया जा सकता हैं| सम्राट कनिष्क के राज्य रोहण की वर्षगाठ के अवसर पर वर्ष 2013 से मनाया जाने वाला  “22 मार्च- इंटरनेशनल गुर्जर डे” आज देश-विदेश में बसे गुर्जरो के बीच एकता और भाईचारे से परिपूर्ण उत्सव का रूप ले चुका हैं|

सम्राट कनिष्क के सिक्के पर उत्कीर्ण पाया जाने वाला ‘राजसी चिन्ह’ जिसे ‘कनिष्क का तमगा’ भी कहते हैं, आज गुर्जर समुदाय की पहचान बन कर उनके वाहनों, स्मृति चिन्हों, घरो और उनके कपड़ो तक पर अपना स्थान ले चुका हैं| सम्राट कनिष्क का राजसी चिन्ह गुर्जर कौम की एकता, उसके गौरवशाली इतिहास और विरासत के प्रतीक के रूप में उभरा हैं| कनिष्क के तमगे में ऊपर की तरफ चार नुकीले काटे के आकार की रेखाए हैं तथा नीचे एक खुला हुआ गोला हैं| कुषाण सम्राट शिव के उपासक थे| कनिष्क के अनेक सिक्को पर शिव मृगछाल, त्रिशूल, डमरू और कमण्डल के साथ उत्कीर्ण हैं|  कनिष्क का राजसी निशान “शिव के त्रिशूल” और उनकी की सवारी “नंदी बैल के पैर के निशान” का समन्वित रूप हैं| सबसे पहले इस राज चिन्ह को कनिष्क के पिता सम्राट विम कड्फिस ने अपने सिक्को पर उत्कीर्ण कराया था| विम कड्फिस शिव का परम भक्त था तथा उसने माहेश्वर की उपाधि धारण की थी| उसने अपने सिक्को पर शिव और नंदी दोनों को उत्कीर्ण कराया था| यह राजसी चिन्ह कुषाण राजवंश और राजा दोनों का प्रतीक था तथा राजकार्य में मोहर के रूप में प्रयोग किया जाता था|

सन्दर्भ:

1. भगवत शरण उपाध्याय, भारतीय संस्कृति के स्त्रोत, नई दिल्ली, 1991,

2. रेखा चतुर्वेदी भारत में सूर्य पूजा-सरयू पार के विशेष सन्दर्भ में (लेख) जनइतिहास शोध पत्रिका, खंड-1 मेरठ, 2006

3. ए. कनिंघम आरकेलोजिकल सर्वे रिपोर्ट, 1864

4. के. सी.ओझा, दी हिस्ट्री आफ फारेन रूल इन ऐन्शिऐन्ट इण्डिया, इलाहाबाद, 1968 

5. डी. आर. भण्डारकर, फारेन एलीमेण्ट इन इण्डियन पापुलेशन (लेख), इण्डियन ऐन्टिक्वैरी खण्डX L 1911

6. ए. एम. टी. जैक्सन, भिनमाल (लेख), बोम्बे गजेटियर खण्ड 1 भाग 1, बोम्बे, 1896

7. विन्सेंट ए. स्मिथ, दी ऑक्सफोर्ड हिस्टरी ऑफ इंडिया, चोथा संस्करण, दिल्ली,

8. जे.एम. कैम्पबैल, दी गूजर (लेख), बोम्बे गजेटियर खण्ड IX भाग 2, बोम्बे, 1899

9.के. सी. ओझा, ओझा निबंध संग्रह, भाग-1 उदयपुर, 1954

10.बी. एन. पुरी. हिस्ट्री ऑफ गुर्जर-प्रतिहार, नई दिल्ली, 1986

11. डी. आर. भण्डारकर, गुर्जर (लेख), जे.बी.बी.आर.एस. खंड 21, 1903

12 परमेश्वरी लाल गुप्त, कोइन्स. नई दिल्ली, 1969

13. आर. सी मजुमदार, प्राचीन भारत

14. रमाशंकर त्रिपाठी, हिस्ट्री ऑफ ऐन्शीएन्ट इंडिया, दिल्ली, 1987

15. राम शरण शर्मा, इंडियन फ्यूडलिज्म, दिल्ली, 1980

16. बी. एन. मुखर्जी, दी कुषाण लीनऐज, कलकत्ता, 1967,

17. बी. एन. मुखर्जी, कुषाण स्टडीज: न्यू पर्सपैक्टिव,कलकत्ता, 2004,

18. हाजिमे नकमुरा, दी वे ऑफ थिंकिंग ऑफ इस्टर्न पीपल्स: इंडिया-चाइना-तिब्बत –जापान

19. स्टडीज़ इन इंडो-एशियन कल्चर, खंड 1, इंटरनेशनल एकेडमी ऑफ इंडियन कल्चर, 1972,

20. एच. ए. रोज, ए गिलोसरी ऑफ ट्राइब एंड कास्ट ऑफ पंजाब एंड नोर्थ-वेस्टर्न प्रोविंसेज

21. जी. ए. ग्रीयरसन, लिंगविस्टिक सर्वे ऑफ इंडिया, खंड IX  भाग IV, कलकत्ता, 1916

22. के. एम. मुंशी, दी ग्लोरी देट वाज़ गुर्जर देश, बोम्बे, 1954 

23. भास्कर चट्टोपाध्याय, दी ऐज ऑफ़ दी कुशान्स, कलकत्ता, 1967